Top 10 Hindi short stories with moral [ हिंदी नैतिक कहानियों ] Hindi Stories

Hii friends swagat he aap ka is ek or nai Hindi Short stories with moral me friends Bachpan se humne bahot se Moral Stories suni hogi, Par usme hamari sabse pasandida stories hoti thi, Hindi Stories with Moral. Bachho ko hamesha moral stories with picture stories sabse jyada pasand aati hai aur unke bachho ko kaafi achi sikh bhi milti hai.

Toh aasha kart ahu ke aapko yeh Top 10 Hindi short stories with moral acha lagega. Aur yeh Moral Stories in Hindi aapke bachho ke liye labhdayak hogi.

1 . ज़िन्दगी में खुश रहने का तरीका |Hindi Moral Story for Happy Life


गाँव में एक बूढ़ा व्यक्ति रहता था। वह दुनिया के सबसे दुर्भाग्यशाली लोगों में से एक थे। पूरा गाँव उससे थक गया था; वह हमेशा उदास रहता था, वह लगातार शिकायत करता था और हमेशा बुरे मूड में रहता था।

जितनी उसकी उम्र बढ़ रही थी , वह उतनाही और परेशां हो रहा था, और उतने ही जहरीले उसके शब्द बनते जा रहे थे । लोग उससे दूर भागने लगे थे, क्योंकि उसके बुरे व्यवहार की वजह से लोगो का अच्छा मूड और दिन दोनों भी ख़राब हो जाता था |

उसके वजह से अब तोह लोग भी नाखुश रहने लगे थे ।

लेकिन एक दिन, जब वह बूढ़ा इंसान अस्सी साल का हो गया, तो एक अविश्वसनीय बात हुई। तुरंत ही लोग उसकी अफवाये  सुनने लगे |

“वह बूढ़ा आदमी आज खुश है, वह किसी भी चीज के बारे में शिकायत नहीं कर रहा , मुस्कुराता रहा है, और यहां तक कि उसका चेहरा भी आज ताजा हो गया है।”

पूरा गाँव इकट्ठा हो गया। और  बूढ़े आदमी से पूछा “आपको क्या हुआ?”

बूढ़े ने बताया “कुछ खास नहीं। अस्सी साल मैं खुशी का पीछा कर रहा था, पर कुछ हाथ न आया । और फिर आज मैंने खुशी के बिना जीने का फैसला किया और बस जीवन का आनंद लिया। इसलिए मैं अब खुश हूं। “

Moral of the Story:

खुशी का पीछा मत करो। जीवन का आनंद लो। ख़ुशी अपनेआप आपके पीछे आएगी |

If you run behind Happiness, you will get sorrows more. Don’t expect much & enjoy life.

2.झूंठ बोलने वालो का नुकसान Hindi short stories

एक बकरी चराने वाले लड़के (Shepherd Boy)  ने अपने मालिक की बकरीयों को  गांव से दूर एक अंधेरे जंगल के पास चराने लेके गया ।

जल्द ही वह अपने इस काम से बहोत bore हो गया । वह खुद का टाइमपास करने के लिए एक तोह बस अपने कुत्ते से बात कर सकता था या जंगल के किसी पेड़ पे चढ़के अकेला खेल सकता था ।

Top 10 Hindi short stories with moral

Top 10 Hindi short stories with moral [ हिंदी नैतिक कहानियों ] Hindi Stories
top 10 Hindi short stories with moral

एक दिन जब वह बकरीयों और शांत जंगल को देख रहा था, और सोच रहा था कि अगर वहा अगर कोई भेड़िया (Wolf) आ जाये तोह वह क्या करेगा ?, उसने खुद का Timepass करने के लिए एक शैतानी Plan बनाया ।

उकसे मालिक ने उससे  कहा था कि अगर कोई भेड़िया अपने बकरीयों के  झुंड पर हमला करने को आये तोह उसे “भेड़िया आया” चिल्लाके गाव वालो से मदद मांगनी होगी , और गांववाले उसे भगा देंगे। तो अब, हालांकि वहा कोई भेड़िया नहीं आया था , वह फिर भी जोर-जोर से  चिल्लाते हुए गाँव की ओर भागा, “भेड़िया आया ! भेड़िया आया !”

जैसा कि उसने उम्मीद की थी, सभी गांववाले वाले ग्रामीणों ने अपना काम छोड़ दिया और अपने हथियारों के साथ घने जंगल में दौड़ आये । लेकिन जब वो सब भागते हुए लड़के के पास पोहोच गए तब लड़का उनपे जोर-जोर से हसने लगा | “कैसा उल्लू बनाया | कैसा उल्लू बनाया |” गाववालो ने इसे बच्चे की नादानी समझ के माफ़ कर दिया |

कुछ दिनों बाद लड़के ने  फिर चिल्लाया, “भेड़िया! Wolf भेड़िया! Wolf ” फिर से ग्रामीण उसकी मदद करने के लिए दौड़े, पर इस बार भी लड़के ने उनका मजाक बनाया था ।

फिर एक शाम जब सूरज जंगल के पीछे से ढल रहा था और जंगल में अँधेरा पद रहा था , तब सचमे एक भेड़िये ने बकरीयो पे हमला कर दिया | लड़का भेड़िया को देख के डर गया और गाँव की ओर भागा! “भेड़िया आया बचाओ |भेड़िया आया बचाओ |”

जब गाववालो ने लड़के को देखा तोह उसके ऊपर हसने लगे और बोले “बच्चे तुम हमेशा हमें उल्लू नहीं बना सकते |” और सब गांववाले ठहाके मारते हुए लड़के पर हसने लगे |

भेड़िये ने  कई बकरीयों को मार डाला और फिर जंगल में निकल गया। और तब लड़के को अपनी गलतियों का एहसास हुआ |

Moral Value of this Story :

Is Hindi short moral stories me hame shikh milti he ki hamesha jhuth bolne valao ki bato ko duniya kabhi sach nhi manegi isliye hamesha sachai ke sath rhe

3.जो दोगे वही मिलेगा ‘What you give, you get in return’Hindi short moral stories

एक आदमी और उसका लड़का  एक पहाड़ पे Trekking कर रहे थे  चलते चलते लड़के का पैर एक पत्थर से टकराया  और वह दर्द के साथ चिल्लाया, “आह!”  और तभी  पहाड़ से एक आवाज आयी  “आह!” लड़का हैरान हो गया |

Top 10 Hindi short stories with moral [ हिंदी नैतिक कहानियों ] Hindi Stories
top 10 Hindi short stories with moral

यह किसकी आवाज है इस आश्चर्य से लड़के ने फिर से चिल्लाया  “कौन है वहा ?” आवाज ने फिर से जवाब दिया “कौन है वहा ?” लड़का क्रोधित हो गया, और फिर से चिल्लाया, “तुम बेवकूफ हो!” और फिर से आवाज ने जवाब दिया, “तुम बेवकूफ हो!”

इससे गुस्सा होकर, लड़के ने अपने पिता से पूछा, “पापा , क्या चल रहा है? यह कौन है? ”पिता ने उत्तर दिया,“ बेटा, ध्यान दो ”। पिता चिल्लाया, “तुम बहुत अच्छे हो”। और आवाज ने जवाब दिया, “तुम बहुत अच्छे हो” पिता ने फिर चिल्लाया, “Thank You “। और आवाज ने फिर से वही जवाब दिया, “Thank You “|

बेटा बहुत हैरान हो गया, पर अभी भी वो समझ नहीं पाया कि क्या हो रहा था।

पिता ने समझाया, “बेटा, लोग इसे प्रतिध्वनि कहते हैं, लेकिन यह जीवन का सच है। जीवन आपके कार्यों का प्रतिबिंब है। आप दूसरों को क्या देंगे, बदले में आपको वही मिलेगा।” लड़के ने इस सबक को सीखा और अपने पिता से हमेशा दुसरो से अच्छा व्यवहार करने बात की |

Moral Value of this Story :

Is hindi short moral stories me hame sikh milti he ki ham dusro kya dete or badle me jivan hame kya deta he , jindgi me koi ghatna sayog nhi hota balki apne kiye kareyo ka fal he

4.खरगोश और कछुए की कथा | Moral Storyies in Hindi

एक बार एक जंगल में , एक खरगोश (Rabbit) और एक कछुआ (Tortoise) रहते थे। वे अच्छे दोस्त थे।

वे रोज मिलते और खेलते थे। खरगोश को हमेशा यह घमंड था कि वह कछुए से भी तेज दौड़ सकता है। एक दिन उन्होंने दौड़ लगाने का फैसला किया। उन्होंने एक शुरुआती बिंदु, ट्रैक और फिनिशिंग पॉइंट चुना है। जाहिर है, खरगोश तेजी से भाग रहा था और जल्द ही उसने कछुए को बहुत पीछे छोड़ दिया। कछुआ धीरे-धीरे और स्थिर चल रहा था।

Top 10 Hindi short stories with moral [ हिंदी नैतिक कहानियों ] Hindi Stories
top 10 Hindi short stories with moral

जब खरगोश ने देखा कि उसके और कछुए के बीच की दूरी बहुत ज्यादा है और यहां तक कि वह कछुआ भी नहीं देख सकता है, इसलिए उसने कुछ समय के लिए आराम करने की सोची। खरगोश घमंड (Over-Confidence)  हो गया था |

वह एक पेड़ के नीचे रुक गया, गाजर खाये और सो गया। जब खरगोश  नींद में जीत के सपने देख रहा था तब  कछुआ धीरे-धीरे चलते हुए फिनिशिंग लाइन पर पहुंच गया। जब खरगोश उठा तो उसने देखा कि कछुआ पहले ही रेस जीत चुका है … तब खरगोश को अपने गलती का एहसास हुआ |

Moral Value of this Story :

Hindi Moral Stories:  हमे कभी भी घमंडी (Over-Confident) नहीं होना चाहिए और दुसरो को कभी नीचे नहीं देखना चाहिए (Never Underestimate Others)

5.सुनहरा अंडा देनेवाली मुर्गी | The Golden Egg Moral Stories in Hindi

एक किसान के पास एक मुर्गी थी जो हर दिन एक सुनहरा अंडा देती थी | अंडे ने किसान और उसकी पत्नी को उनकी रोजमर्रा की जरूरतों के लिए पर्याप्त धन उपलब्ध कराया। किसान और उसकी पत्नी लंबे समय से खुश थे। लेकिन एक दिन, किसान को एक विचार आया और उसने सोचा, “मुझे एक दिन में सिर्फ एक अंडा क्यों लेना चाहिए? मैं उन सभी को एक साथ क्यों नहीं ले सकता और बहुत पैसा कमा सकता हूं? “

Top 10 Hindi short stories with moral [ हिंदी नैतिक कहानियों ] Hindi Stories
top 10 Hindi short stories with moral

मूर्ख किसान की पत्नी भी सहमत हो गई और उसने अंडों के लिए मुर्गी का पेट काटने का फैसला किया। जैसे ही उन्होंने मुर्गी को मार डाला और उसका पेट को खोला, उसे अंदर एक भी अंडा नहीं मिला । किसान, अपनी मूर्खतापूर्ण गलती को महसूस करते हुए रोटा रहा !

Moral Value of this Story :

Moral Stories in Hindi : कुछ भी करने से पहले आगे क्या हो सकता है वह सोचो, तभी आगे बढ़ो

6.अपनों की गलतियों को नजरअंदाज करना | Moral Story for Forgiving Mistakes

एक दिन की बात है जब  दो दोस्त रेगिस्तान से गुजर रहे थे। यात्रा के दौरान उनके बीच में कुछ लड़ाई हो गयी , और एक दोस्त ने दूसरे को चेहरे पर थप्पड़ मार दिया ।

जिसने अपने दोस्त से थप्पड़ खाया था , उसे इस चीज का बहोत HURT हुआ था, पर उसने बिना कुछ कहे, रेत में लिखा;

“आज मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने मुझे थप्पड़ मारा।”

एक बात के बाद दोनों रेगिस्तान में चलते रहे | आगे जेक उन्हें एक तालाब मिला जहां पे उन्होंने स्नान करने का फैसला किया। जिसको थप्पड़ मारा गया था, वह पानी के दलदल में फंस गया और डूबने लगा, लेकिन उसके  दोस्त ने उसे बचा लिया।

पानी में डूबने से बचने का बादमे पहले थप्पड़ खाये उस दोस्त ने एक पत्थर पर लिखा;

“आज मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने मेरी जान बचाई।”

जिस दोस्त ने पहले थप्पड़ मारा था और अब उसको बचाया था , उसने पूछा;

“मैंने तुम्हे HURT करने के बाद, तुमने रेत में लिखा और अब, आप एक पत्थर पर लिखते रहे हैं, ऐसा क्यों?”

तब दूसरे मित्र ने उत्तर दिया;

“जब कोई हमें ठेस पहुँचाता है तो हमें इसे रेत में लिख देना चाहिए जहाँ क्षमा की हवाएँ इसे मिटा सकती हैं। लेकिन, जब कोई हमारे लिए कुछ अच्छा करता है, तो हमें उसे पत्थर में उकेरना चाहिए, जहां कोई हवा उसे मिटा नहीं सकती। ”

Moral of the Story:

अपने जीवन में रहने वाले अच्छे लोगो की बुरी बातो को नजरअंदाज करे और उनकी अछि बातो की हमेशा प्रशंसा करे |

7.चिंता से दूर रहे | Moral Story for Sorrow Life

एक गांव में एक बुद्धिमान व्यक्ति रहता था | लोग हमेशा बार बार अपने समस्याओं के बारे में शिकायत करने के लिए उनके पास जाते थे ।

एक दिन बुद्धिमान व्यक्ति ने सब लोगो को एक चुटकुला (Joke) सुनाया और सभी लोग हंसी के मरे लोट-पोट हो गए ।

कुछ मिनटों के बाद, उन्होंने उन्हें वही चुटकुला लोगो को सुनाया और फिर उनमें से कुछ ही लोग मुस्कुराए।

जब बुद्धिमान व्यक्ति ने तीसरी बार वही चुटकुला लोगो को सुनाया तो कोई भी नहीं हंसा।

बुद्धिमान व्यक्ति मुस्कुराया और कहा:

“आप एक ही चुटकुले पे बार-बार हँस नहीं सकते। तो आप हमेशा एक ही समस्या के बारे में क्यों रो रहे हैं? “

Moral of the Story:

चिंता करने से आपकी समस्याओं का समाधान नहीं होगा, यह सिर्फ आपका समय बर्बाद करेगा। अच्छा सोचने से ही आप ज़िन्दगी से आगे बढ़ पाओगे |

8. कुत्ते की ईमानदारी | Hindi short moaral stories

एक रात एक घर में एक चोर घुस आया । वह चोर कुत्ते (DOG) को चकमा देने के लिए अपने साथ मांस के कई टुकड़े ले आया। चोर घर में घुस आया और कुत्ते की तरफ एक-दो मांस के टुकड़े फेंके।

इस कृत्य पर, कुत्ते ने कहा, “यदि आपको लगता है कि मांस के इस टुकड़े को फेंकने से आप मुझे बेवकूफ बना सकते हैं, तो आप गलत हैं।” उसके बाद चोर कुत्ते के पास मांस का एक और टुकड़ा फेंकता है। कुत्ता टुकड़ा नहीं उठाता  और जवाब देता है की , “मैं एक वफादार पालतू कुत्ता हूं।

आप मुझे बेवकूफ बनाके मेरे मालिक को नुकसान नहीं पहुंचा सकते ।” यह बोलते ही कुत्ते ने चोर पे भोकना चालू कर दिया और उसे काटने के लिए दौड़ पड़ा । चोर घबरा के  खिड़की से बाहर भाग गया। कुत्ते की आवाज सुनकर कुत्ते के मालिक जाग गए। वह कमरे से बाहर आये और घटना की जानकारी ली। तब उन्होंने कुत्ते को शाब्बासी देते हुए इनाम के रूप में खाने के लिए दो और टुकड़े दिए।

Moral of the Story : जो ईमानदारी से काम करते है उन्हें रिश्वत की कोई जरूरत नहीं होती, उन्हें शाब्बासी के साथ रिश्वत से ज्यादा कमाई मिलती है |

9. दुसरो का भला सोचने वाली मछली | Fish with Good Intentions short moral stories in hindi

बहुत समय पहले, एक झील में एक मछली (FISH) रहती थी जो हमेशा दूसरों के अच्छे के बारे में सोचती थी। एक बार भयानक सूखा पड़ा जिससे झील सूख गई।

इसके कारण झील में रहने वाले कई जीवों ने अपनी जान गंवा दी। मछली कुछ अन्य प्राणियों के साथ कीचड़ में दब गई। जल्द ही वे पक्षियों और जानवरों का शिकार बन गए। यह देखकर, मछली ने खुद को और अन्य प्राणियों को बचाने के लिए कुछ करने की सोची।

मछली ने बहुत कोशिश की और सतह पर आ गई। वह मछली ने  भगवान से प्रार्थना की, “हे भगवान! हमारे पापों को क्षमा करो। कृपया सभी प्राणियों को इस दुख से बचाइए और सबको राहत दें। मछली के  सच्चे दिल से किये प्रार्थना को भगवन ने  स्वीकार कर लिया ।

और पृथ्वी पर भारी बारिश हुई । जब बारिश की वजह से झील में पानी भरने लगा , तब  मछली और अन्य प्राणियों के प्राण बच गए ।

Moral of the Story : दुसरो का भला करने वालो को भगवन कभी दुखी नहीं करता ।

10. दुसरो की HELP करे का फल |Lion and the Mouse short hindi moral stories

एक जंगल में एक शेर (LION) रहता था। एक दिन बड़के खाना खाने के बाद वह शेर एक पेड़ के नीचे सो रहा था। थोड़ी देर बाद, वहाँ एक चूहा (MICE) आया और उसने शेर के शरीर पर खेलना शुरू कर दिया।

अचानक शेर गुस्से से उठा और जिसने उसकी नींद ख़राब की उसे ढूंढने लगा । तब उसने देखा कि एक छोटा चूहा डर के मारे कांप रहा है। शेर ने गुस्से में चूहे को जा पकड़ा ।

वह चूहे को खाने ही वाला था की तभी चूहे ने उसे SORRY बोला और कहा की अगर आप आज मुझे छोड़ दो तोह अगली बार में आपकी HELP करूँगा । शेर हसने लगा और बोला की “तुम इतने छोटे चूहे मेरी क्या HELP करोगे | पर आज मेरा पेट भरा हुआ है तो में आज तुझे छोड़ देता हु |” चूहा जान बचके भाग गया |

कुछ और दिनों बाद जब शेर फिरसे उसी पेड़ की निचे सो रहा था , तभी एक शिकारी ने आ के उसे अपने जाले (NET) में कैद कर लिया |

शेर असहाय बन गया और बचाओ बचाओ चिल्लाने लगा | उतने में वही चूहा वह पे आ गया और शेर को बोला “उस दिन आपने मेरी जान बचायी थी तो आज में आपकी जाम बचाऊंगा |” और चूहे ने अपने दातो से शिकारी के जाल को काट डाला |

तब शेर को एहसास हुआ की उस दिन चूहे को छोड़ने की वजह से ही आज उसकी जान बची है | और फिर दोनों अचे दोस्त बन गए |

Moral of the Story : जब आप दुसरो की HELP करोगे, तभी आपके जरूरत में कोई आपकी HELP करेगा |

THANKU FOR WISIT JUET

Hey, I’m Swaroop Singh, A Part Time Blogger & Youtuber, Founder of juet.in,barmernewstrack.com and Swaroop YouTube Channel.

Leave a Comment